कपड़ा

बचपन में देखा करती थी

बीर दीदी और गुड्डी दीदी को

कपड़े की क़तरनें तार पर सुखाते

.

क्या हैं ये, सोचा बहुत

पर किसी से पूछा नहीं कभी

.

फिर एक दिन मेरी बारी आयी

कपड़ा ढूँढने, लगाने, छुपाने की

धोया और सुखाया तो नहीं कभी

(पुराने कपड़ों की घर में कमी न थी)

.

पर वो गीलापन

वो दाग लगने की tension

वो बैग में extra skirt स्कूल ले जाना

दाग न देख ले कोई लड़का

पूरा दिन घबराना

.

फिर आया pad का ज़माना

वो aunty की दुकान तक

पैदल चल कर जाना

और काला लिफ़ाफ़ा लेकर

छुपते छुपाते वापस आना

.

पैड भी कोई नई मुसीबत

से कम थे क्या

लगा कर देखो

घंटे भर में रो पड़ोगे भैया!

.

कभी कभी सोचती हूँ

ईश्वर क्यों देता है

इतनी छोटी उम्र में

इतनी परेशानी

जवाब मिलता है —

यह तो है स्त्री शक्ति की निशानी

.

हँस देती हूँ अंदर ही अंदर —

बच्चियों की परीक्षा है यह

और कुछ नहीं

सत्रह का होने तक रुक जाता

तो, हे ईश्वर, तेरा क्या जाता?

.

आज पैड ख़रीदने में शर्म तो नहीं आती

काला थैला दुकान पर ही छोड़ आती

.

पर, हे ईश्वर

सशक्त हूँ मैं अब,

आपकी इच्छानुसार!

.

यह शक्ति अब ले लो वापिस

और कर दो मुझे आज़ाद।

thesaurus

Lee Price, Women and Food, Painting, Poetry
Refuge, 2009, oil on linen, © Lee Price

Respite

Escape

Relief

Revenge

Rebellion

Grief 

Elation

Release

Regret

Celebration

Longing

Dope

Love

Reproach

Medication

.

There’s a secret world

where I call my food

a thousand sweet names.

Wilful Defaulter

Lapsus calami

A half-baked, half-burnt cake

lies in the bin

where no one can see it

but only smell

its barely alive flavours.

.

I look at the clock.

It’s half past ten, time for

another cup of tea infused

with just the right amount of ginger

and some more me time.

.

I sink into my favourite end of the couch,

the one with crumbs

from last night’s dinner.

.

I order a cake, and the world

is suddenly an easier, nicer place.

.

My tea is now just the right temperature.

I wash down mom’s guilt,

one sip at a time.

.

In the motherhood universe,

I’ve yet again turned

a wilful defaulter.

Resurrection

Deep in the abyss

as I closed my eyes

eager to give up

unwilling to try

a flicker of light

invaded my wallow den

uninvited, unwelcome.

Looking back, I wonder. . .

was it a stellar force looking out for me

or just my good ol’ spirit

refusing to say die?

Hospice

 

In the evening of our lives

under the warm, auburn sky

when birds are returning home

autumn is knocking at the door

when I will have stopped being

a rebel with no cause

when the nest is empty

and my limbs shaky

when death is just a few songs away

but the song in my heart

refuses to die…

I will be your hospice.

Will you be mine?